Bookmark and Share

BOOK4

शौकिया डॉक्युमेंट्री फिल्म निर्माता और पेशे से पत्रकार अर्जुन राठौर ने कविताएं भी लिखी है, आलेख भी और व्यंग्य भी। खोजी पत्रकार के रूप में इन्होंने जहां अपनी अलग पहचान बनाई, वहीं धर्मयुग, नवनीत, कादम्बिनी, जनसत्ता, हिन्दी एक्सप्रेस आदि प्रकाशनों में कविताएं भी लिखी। रविवार, दिनमान, श्रीवर्षा, जनसत्ता आदि अखबारों में उनकी रिपोर्टिंग लोकप्रिय रही है और उनके व्यंग्य-लेख पंजाब केसरी, मेरी संगिनी, रांची एक्सप्रेस, ट्रिब्यून, दैनिक नवज्योति, अग्निबाण, प्रभात किरण, राज एक्सप्रेस आदि में भी प्रकाशित होते रहे है। अर्जुन राठौर ने 150 से अधिक डॉक्युमेंट्री फिल्में बनाई है। उनकी एक डॉक्युमेंट्री ‘ये अहिल्या की कहानी है’ भोपाल दूरदर्शन पर दिखाई गई थी। दुनिया के अनेक देशों में वे घूमे हैं और बरसों तक थाईलैंड में रहे हैं।

मेरी व्यंग्य यात्रा संग्रह में उनकी 42 रचनाएं संकलित है। ये व्यंग्य रचनाएं उन्होंने समसामयिक खबरों के संदर्भ में लिखी, जो विभिन्न अखबारों में प्रकाशित होकर चर्चित रही। लगता है अमिताभ बच्चन से अर्जुन राठौर बहुत ज्यादा प्रभावित है, तभी इस संग्रह में बिग बी पर 3 व्यंग्य है। पहला है ‘बिग बी सचमुच महान हैं’, ‘मूर्ख सलाहकारों से बचें अमिताभ’ और ‘अमिताभ की मिठाई का इंतजार’ जैसे 3 व्यंग्य तो है ही, अमिताभ की बहू ऐश्वर्या की गुप्त भेंट जैसे व्यंग्य भी है। शाहरुख खान ने एक इंटरव्यू में कहा था कि सिनेमा के पर्दे पर सिगरेट पीना कलाकार का रचनात्मक अधिकार है। इस पर भी अर्जुन राठौर ने कलम चलाई है। लालू जी आप महान है व्यंग्य में लालू यादव की राजनीति पर तीखा कटाक्ष है।

अर्जुन राठौर ने बजाय गोलमोल बात करने के सीधे-सीधे व्यंग्य किए है। ज्यादातर व्यंग्य सामजिक हालात पर है। जैसे गरीबों को अनाज बांटने का मुद्दा हो या संसद में होने वाला शोर-शराबा। नेताओं द्वारा एक-दूसरे पर कीचड़ उछालने की हाई-टेक राजनीति पर भी उन्होंने व्यंग्य किया है और सांसदों की नाराजगी पर बढ़ते कार्यक्षेत्र पर भी। मुकेश अंबानी द्वारा अपनी पत्नी नीता अंबानी को बर्थ-डे पर हवाई जहाज गिफ्ट करना भी अर्जुन राठौर के व्यंग्य का विषय है।

संग्रह में कुछ ऐसे व्यंग्य भी है, जिनमें स्मित हास्य का प्रभाव देखने को मिलता है। जैसे देश में गधा समुदाय की नाराजगी, मच्छर महाराज की जय हो, पूरे देश के मच्छर भयभीत है, वसुंधरा देवी की जय हो, कीचड़ उछालने की हाईटेक राजनीति आदि। कुल 76 पृष्ठ में समाए इस संग्रह के सभी व्यंग्य छोटे और चुटीले है और मजे लेने के लिए लिखे गए है।

पुस्तक : मेरी व्यंग्य यात्रा
लेखक : अर्जुन राठौर
प्रकाशक : साहित्यवार्ता प्रकाशन
मूल्य : 100 रुपए

Search

मेरा ब्लॉग

blogerright

मेरी किताबें

  Cover

 buy-now-button-2

buy-now-button-1

 

मेरी पुरानी वेबसाईट

मेरा पता

Prakash Hindustani

FH-159, Scheme No. 54

Vijay Nagar, Indore 452 010 (M.P.) India

Mobile : + 91 9893051400

E:mail : prakashhindustani@gmail.com