Bookmark and Share

web-19-3-18

कुछ अरसे से फेसबुक की बड़ी आलोचना की जा रही है कि उसने करोड़ों लोगों का डाटा इकट्ठा कर रखा है। इस डाटा की चोरी और दुरूपयोग से जुड़ी खबरें भी आए दिन उजागर होती रहती है। कई लोग फेसबुक से अपना अकाउंट डी-एक्टीवेट कर रही है और कई लोग तो अपने अकाउंट को ही डिलीट कर रही हैं। फेसबुक में सुरक्षा संबंधी कई प्रावधान हैं, जिसके माध्यम से यूजर अपनी गोपनीयता बनाए रख सकता है या गोपनीयता को सीमित कर सकता हैं, लेकिन फिर भी ऐसे लोगों की कमी नहीं, जो फेसबुक से आजिज आ चुके है और मुक्त होना चाहते हैं।

कई लोगों का यह भी आरोप है कि फेसबुक ने जान-बूझकर अकाउंट का डिजाइन ही इस तरह बनाया है कि कोई भी यूजर लॉग-इन हो, तो उसका रिकॉर्ड फेसबुक के पास दर्ज हो जाता है। इसके अलावा फेसबुक समय-समय पर आपके द्वारा दर्ज की गई सभी जानकारियां इकट्ठी कर लेता है। आपने क्या लाइक किया, कहा कमेंट किया, किस पोस्ट को शेयर किया, कब फोटो शेयर किए, आपका बर्थ-डे कब है, आपकी नौकरी, शिक्षा आदि की तमाम जानकारियां, यहां तक कि आपके जीवनसाथी और परिवार के लोगों के बारे में भी फेसबुक पर जानकारी उपलब्ध है। अब खतरा यह है कि कुछ कंपनियां फेसबुक अकाउंट में सेंध मारकर फेसबुक का बिग डाटा चुरा रही है या आरोप है कि फेसबुक उसका कुछ हिस्सा बेच रहा है। फेसबुक इस बात का खंडन करता है कि उसने कोई जानकारी किसी को बेची है, लेकिन फिर भी अनेक कारणों से विवाद तो होते ही रहते है।

फेसबुक कभी यह नहीं कहता कि आपका अकाउंट फुल हो चुका है, अब आप उसमें पोस्ट शेयर नहीं कर सकते। खुले दिल से वह हर पोस्ट स्वीकार करता है। इतना ही नहीं, वह अपने यूजर को पूरी स्वतंत्रता देता है कि वह अपनी निजी जानकारियां भी वहां पोस्ट कर सकता है। फेसबुक ने 5000 फ्रेंड्स की सीमा जरूर रखी है, लेकिन फेसबुक पेज पर तो वह भी नहीं है। अमित शाह जैसे नेताओं के फेसबुक पेज पर एक करोड़ से अधिक फॉलोअर हो चुके हैं।

FB-Delete

अब अनेक लोगों को लगता है कि उन्होंने फेसबुक पर सक्रिय होकर वक्त की बर्बादी की या अपनी गोपनीय जानकारियां उजागर की। लाखों लोगों ने फेसबुक पर सक्रियता कम कर दी। उसके गोपनीय प्रावधानों का भी उपयोग करना शुरू कर दिया और फ्रेंड्स की संख्या भी सीमित कर दी। अप्रिय पोस्ट लिखने वालों को ब्लॉक करने का प्रचलन भी बढ़ गया है, लेकिन फिर भी ऐसे लोगों की संख्या हजारों में है, जो फेसबुक छोड़कर जा रहे है। फेसबुक अपने यूजर को यह सुविधा दे रहा है कि वह चाहे तो अपना पूरा डाटा सेव भी कर सकते है। यह डाटा यूजर भविष्य में कभी भी इस्तेमाल कर सकता है। ऐसी बहुत सी तस्वीरें और कमेंट्स हो सकते है, जो यूजर के लिए भविष्य में उपयोगी हो सकते है।

कई लोगों को लगता है कि फेसबुक किसी नशे की तरह आदि बना देता है, उसके चक्कर में जरूरी कामकाज नहीं हो पाते। ऐसे लोगों ने भी फेसबुक से छुट्टी पाने के तरीके सोच लिए है। अनेक लोगों ने फेसबुक अकाउंट लॉगआउट किया और फेसबुक ऐप को अपने कम्प्यूटर, लैपटॉप, टेबलेट या मोबाइल से डिलीट कर दिया।

कई लोगों ने यह तरीका भी अपना लिया है कि अपना अकाउंट डिलीट करने की बजाय, उसे डी-एक्टीवेट करना उचित समझा। फेसबुक पर अपना डी-एक्टीवेट करने के लिए उसका यूजर लगभग वैसी ही प्रक्रिया से गुजरता है, जैसी अकाउंट शुरू करते वक्त गुजरा था। कई बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों की निगरानी, फेसबुक अकाउंट के माध्यम से करती है। इसके साथ ही कई भूतपूर्व प्रेमी-प्रेमिकाओं से भी एक-दूसरे की जासूसी के लिए इस प्लेटफार्म का उपयोग करते है। अपने अकाउंट को डी-एक्टीवेट करने के लिए आप फेसबुक की सेटिंग पर जाकर मैनेज युअर अकाउंट के तहत तमाम जानकारियां डी-एक्टीवेट कर सकते हैं। फेसबुक आपसे पूछता है कि क्या आप सचमुच अपना अकाउंट डी-एक्टीवेट करना चाहते हैं। यह इसलिए ताकि कोई जल्दबाजी में ऐसा न करें। अकाउंट डी-एक्टीवेशन का काम सोच-समझकर किया गया हो। फेसबुक एक सर्वे का फार्म भी भरवाता है, जिसमें पूछता है कि आखिर आप फेसबुक से कुट्टी क्यों करना चाहते हैं?

फेसबुक से अलग होने वाले लोगों के लिए यहीं सलाह है कि वे सोच-समझकर अपना अकाउंट डी-एक्टीवेट करें, क्योंकि कई बार आपके पुराने मित्र आपको फेसबुक पर खोजते रहते है। ऐसे में आप उन मित्रों से नहीं मिल पाएंगे। फेसबुक एक भूतपूर्व यूजर ने अपना अकाउंट डी-एक्टीवेट करते हुए अनुभव साझा किया है कि फेसबुक से जुड़ने के बाद वह धीरे-धीरे अलग-अलग ऐप से आपको जोड़ता रहता है। जैसे मेंसेजर आदि। जब मैंने फेसबुक डी-एक्टीवेट किया, तब मेरा नाम 82 एप्स से लिंक था। आप अंदाज लगा सकते है कि आपकी जानकारी कितनी गोपनीय होगी? फेसबुक अपने सभी यूजर को डाउनलोड ए कॉपी यूवर फेसबुक डाटा का ऑप्शन भी देता है, जिसका उपयोग करके आप अपना फेसबुक डाटा सेव कर सकें। इसके बाद आप फेसबुक से बाय-बाय कर सकते हैं। आप चाहे तो श्मशान या कब्रस्तान तक फेसबुक से जुड़े रहे और चाहे तो आज और अभी मुक्ति पा लें।

Search

मेरा ब्लॉग

blogerright

मेरी किताबें

  Cover

 buy-now-button-2

buy-now-button-1

 

मेरी पुरानी वेबसाईट

मेरा पता

Prakash Hindustani

FH-159, Scheme No. 54

Vijay Nagar, Indore 452 010 (M.P.) India

Mobile : + 91 9893051400

E:mail : prakashhindustani@gmail.com