facebook-article1

ब्रेक्सिट मामले के अलावा भी फेसबुक पर आरोप लगे हैं। आमतौर पर यह माना जाता था कि सोशल मीडिया में वही बात सामने आती है, जो लोग पोस्ट करते रहते हैं, लेकिन अब यह भी गलत साबित हो रहा है। आरोप लगे है कि फेसबुक पर राजनैतिक खबरों की ट्रेंडिंग लिस्ट से छेड़छाड़ की जाती है। यह आरोप भी लगा है कि फेसबुक के कर्मचारी अपने तरीके से ट्रेंडिंग लिस्ट में स्टोरी जोड़ते रहते है। इसका सीधा मतलब यह हुआ कि जो पोस्ट ट्रेंडिंग में आ रही है, वे निष्पक्ष नहीं है। फेसबुक ने इन आरोपों को गलत बताया है और कहा है कि हम अपने कर्मचारियों को ट्रेनिंग देते है कि वे अपनी राजनैतिक विचारधारा को अपने काम में शामिल न होने दें। फेसबुक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पत्रकारों के सामने खुलकर यह बात रखी कि फेसबुक किस तरह ट्रेंडिंग टॉपिक्स का चयन करता है। फेसबुक का कहना है कि हमारे पास निष्पक्ष व्यवहार करने के लिए एक पूरी व्यवस्था है, जो पब्लिक पोस्ट में संतुलन की भूमिका निभाती है। न्यूज फीड में जो भी स्टोरी पहुंचती है, उसे तय करने के लिए एक अल्गोरिदम होता है, जो तय करता है कि कौन-कौन सी स्टोरी को ट्रेंडिंग टॉपिक बनाया जाए। फिर एक टीम उपलब्ध स्टोरीज में से ट्रेंडिंग टॉपिक का चयन करती है।

Read more...

us-election-3

अमेरिका (यूएसए) में नया राष्ट्रपति चुना जाना है। एक साल पहले से नए राष्ट्रपति के लिए गतिविधियां शुरू हो गई। डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टी पूरा जोर लगा रही है कि राष्ट्रपति उन्हीं का हो। अमेरिका की नियति है कि वहां राष्ट्रपति चुने जाने के दो साल बाद ही अगले राष्ट्रपति के चुनाव की गतिविधियां शुरू हो जाती है। 2012 में हुए राष्ट्रपति चुनाव में दोनों ही प्रमुख पार्टियों ने बड़ी मात्रा में धन खर्च किया था। एक अनुमान है कि डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टियों का चुनाव खर्च 11 अरब 40 करोड़ डॉलर (भारतीय रुपए के वर्तमान मूल्य के अनुसार करीब 775 अरब)के बराबर था। उस समय रुपए की कीमत ज्यादा थी। अनुमान है कि इस बार राष्ट्रपति पद के चुनाव में विज्ञापन का खर्च इससे भी 20 प्रतिशत अधिक होगा। इस खर्च का 7 से 10 प्रतिशत तक डिजिटल मीडिया पर खर्च होने का अनुमान है।

Read more...

social-media

रवीश कुमार ने हाल ही में एक कार्यक्रम में कहा कि मैं न्यूज चैनल नहीं देखता और न ही अखबार पढ़ता हूं। हो सकता है कुछ दिन बाद वे यह भी कहने लगे कि मैं सोशल मीडिया पर भी नहीं जाता। जिस तरह से अखबार और टीवी मूल मुद्दों से हटकर संदर्भहीन समाचारों और कार्यक्रमों के कारण अपना अर्थ खोते जा रहे है। उसी तरह सोशल मीडिया भी लोगों के व्यक्तित्व का नाश करता जा रहा है।

Read more...

 

sunny21

 

2015 में लोगों ने गूगल पर क्या-क्या खोजा इसकी रिपोर्ट गूगल ने सार्वजनिक की है। 2015 में भी गूगल पर बॉलीवुड और क्रिकेट का ही बोलबाला रहा। इसके अलावा प्राकृतिक आपदा, ब्रेकिंग न्यूज जैसे चेन्नई की बाढ़ और नेपाल में भूकंप छाए रहे। मैगी न्यूडल्स पर लगने वाला बैन भी लोगों द्वारा सर्च किया गया। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप भी सर्च किया गया और वीरेन्द्र सहवाग के रिटायर होने की घोषणा भी।

Read more...

dauther2

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अपनाया गया हैशटैग ‘सेल्फी विथ डॉटर’(#SelfieWithDaughter) साल 2015 के सबसे प्रभावी हैशटैग की श्रेणी में रखा गया है। मन की बात कार्यक्रम में नरेन्द्र मोदी ने हरियाणा के बीबीपुर गांव में सरपंच द्वारा किए गए सेल्फी विथ डॉटर अभियान के बारे में कहा था। फिर पूरी दुनिया में सेल्फी विथ डॉटर का हैशटैग चलन में आ गया था। खुद नरेन्द्र मोदी को भी शायद इसकी उम्मीद नहीं थी।

Read more...

terror

हैफा विश्वविद्यालय (इजराइल) की तरफ से किए गए एक अध्ययन में पता चला कि 90 प्रतिशत आतंकी संगठन अपने प्रचार-प्रसार के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते है। सोशल मीडिया एक सस्ता, त्वरित और तेजी से संदेशों का प्रचार करने वाला माध्यम है। सोशल मीडिया के माध्यम से ही आतंकी समूह अपना जाल फैलाते है। नए आतंकी भर्ती करने में भी सोशल मीडिया का हाथ बहुत ज्यादा है।

Read more...

Search

मेरा ब्लॉग

blogerright

मेरी किताबें

  Cover

 buy-now-button-2

buy-now-button-1

 

मेरी पुरानी वेबसाईट

मेरा पता

Prakash Hindustani

FH-159, Scheme No. 54

Vijay Nagar, Indore 452 010 (M.P.) India

Mobile : + 91 9893051400

E:mail : prakashhindustani@gmail.com